Sunday 28 June 2009

येसूदास के आठ मधुर गीत


येसुदास के हिन्दी फिल्मी गीतों का दौर । बहुत आनन्ददायक दौर । क्या किसी क्षेत्रवादी साजिश के कारण उन्होंने हिन्दी फिल्मों गीतों में गाना बन्द कर दिया था ? अज़दक भाई शायद बता दें । या युनुस बतायें ।

Powered by eSnips.com

4 comments:

  1. आपके माध्यम से आज की सुबह येसुदास के नाम रही .येसुदास मुझे बहुत पसंद है .बहुत बहुत धन्यवाद.

    ReplyDelete
  2. अफलातून जी येसुदास के बारे में मैंने रेडियोवाणी पर भी लिखा है । सबसे पहले मेरी जानकारी में सलिल चौधरी उन्‍हें हिंदी फिल्‍म संसार में उतारा था । उनका संकट ये रहा कि बंबईया संगीत जगत में किसी भी नायक पर उनकी आवाज़ फिट नहीं बैठती थी । एक समय तक उनके बहुत गीत आए । पर फिर वे दक्षिण तक ही सिमट गए । सुना है कि बीच में वो अमरीका जाकर बस गए थे । बहुत बाद में अनिल कपूर अभिनीत एक फिल्‍म में उन्‍होंने अनिल कपूर के लिए गाया था ।
    वो किसी क्षेत्रवाद का शिकार नहीं हुए । बंबईया फिल्‍म जगत की बंधी बंधाई लीक में जम नहीं सके । कुछ बरस पहले उनके बेटे विजय ने 'फिर मिलेंगे' नामक फिल्‍म में हिंदी में गाया है । ज़रा सोचिए कि अपने कुछ ही गीतों से येसुदास अपने अलबम की बिक्री में कई बड़े दिग्‍गजों को अभी भी पटखनी देते हैं ।

    ReplyDelete
  3. ये आवाज भीतर घुसकर हलचल मचाती है। मदमस्‍त कर देती है। शुक्रिया आपका।

    ReplyDelete
  4. येशुदास की आवाज मे जो कशीश है वह हमे अपनी ओर खिंचती है । हम आपके आभारी है कि आपने उनका यहाँ संकलन सुनने के लिये यहां उपलब्ध करवाया ।

    ReplyDelete

पसन्द - नापसन्द का इज़हार करें , बल मिलेगा ।