Tuesday 21 April 2009

' विरह विथा का को कहूं सजनी '

कल मेरी पत्नी डॉ. स्वाति उत्तर बंग में समाजवादी जनपरिषद के दो प्रत्याशियों के पक्ष में प्रचार करने गयी हैं । आज उनकी प्रिय एम. एस. सुब्बलक्ष्मी के स्वर में मीराबाई के यह तीन भजन पेश कर रहा हूँ । वे लौटकर सुनेंगी । मैं आज सुन रहा हूँ। क्या पता गुनगुना रही हों , चुनावी सभाओं के बीच के अन्तराल में !
Powered by eSnips.com

3 comments:

  1. अफलातून भाई, सुश्री सुब्बालक्ष्मी जी की गायकी सदा से दीव्य लगती रही है - सुँदर प्रयास के लिये आभार !

    ReplyDelete
  2. आप इतने ज़बरदस्त संगीतप्रेमी हैं, ये पता नहीं था!

    ReplyDelete

पसन्द - नापसन्द का इज़हार करें , बल मिलेगा ।