Sunday 4 January 2009

मण्डी के कुछ गीत

वनराज भाटिया द्वारा संगीतबद्ध दस गीत यहाँ पेश किए थे । रसिकों ने सराहा था । आज श्याम बेनेगल की मण्डी के चार गीत मिल गये ।
जाड़ा-पाला में सुनिए । गनवा लगा के घोंसले में घु्स जाइए फिर बताइए ।

हर में हर को देखा



इश्क के शोले को भड़काओ



शमशीर बरैना



ज़बाने बदलते हैं

12 comments:

  1. बहुत दिनों के बाद सुने ये गीत! आप का आभार!

    ReplyDelete
  2. सुनने का तो बड़ा मन है, लेकिन कंप्यूटर में स्पीकर नहीं है। वैसे जब देखता हूं आपका यही ब्लाग खुल जाता है। विचारों की उल्टी करने वाला कोई ब्लॉग नहीं है क्या?

    ReplyDelete
  3. अफ़लातूनजी,
    कैसे आपका शुक्रिया अदा करें । "हर में हर को देखा" को एक अरसे से खोज रहे थे, आज मिला है तो बस मस्त होकर सुने जा रहे हैं । इसके आगे गंगा जमुनी तहजीब की और कोई दलील बाकी है क्या?

    बहुत आभार,

    ReplyDelete
  4. प्रस्तुति का धन्यवाद! मुझे याद है. जितनी अच्छी फ़िल्म थी उतना ही अच्छा संगीत भी था.

    ReplyDelete
  5. एक से एक सुन्दर व मधुर गीत सुनवाने के लिए धन्यवाद।
    घुघूती बासूती

    ReplyDelete
  6. आपने तो आनन्‍दोत्‍सव की मण्‍डी लगा दी। एक से एक अनुठी बन्दिश।
    आपने गूंगे को गुड खिलाया और स्‍वाद पूछ रहे हैं।
    आप पर न्‍यौछावर।

    ReplyDelete
  7. आपने तो आनन्‍दोत्‍सव की मण्‍डी लगा दी। एक से एक अनूठी बन्दिश।
    आपने गूंगे को गुड खिला दिया और स्‍वाद पूछ रहे हैं।
    आप पर न्‍यौछावर।

    ReplyDelete
  8. Wah badhiya collection !shukriya aaj poora coolection nahin sun paya . ghar lautte hi fursat se sunoonga.

    ReplyDelete
  9. कहाँ से जुटा लाते हैं ऐसे अप्राप्य गीत?

    ReplyDelete

पसन्द - नापसन्द का इज़हार करें , बल मिलेगा ।