Friday 17 July 2009

मन मोर हुआ मतवाला / सचिनदेव बर्मन / नरेन्द्र शर्मा / सुरैय्या /

पूर्वी उत्तर प्रदेश में कम बारिश होने के बावजूद दो बार मोर को मतवाले होते देख पाया । पहली बार तो एक बच्चा (मानव)पहले दिखा । कितना अचंभित,अभिभूत ! पहली बार मोर को नाचते हुए देखा होगा।
अफ़सर फिल्म (१९५०) के इस सुरीले गीत में नरेन्द्र शर्मा, सचिनदेव बर्मन और सुरैय्या सबका अपूर्व योगदान है :



सैंकड़ों पुराने गीतों के दो डीवीडी सागर नाहर ने मुझे भेट दिए । उनमें से एक में है , यह ।

1 comment:

  1. पहले जब जब ये गीत सुना है तब भी बहुत पसँद आया और आज भी !
    :)
    सागर भाइस्सा को और आप
    दोनोँ को धन्यवाद -
    उस बच्चे के आनँद की
    प्रतीति हो रही है
    और मन मोर नाच रहा है ...
    बारिश की फुहारेँ
    सँजीवनी का काम करे
    यही शुभकामना है
    - लावण्या

    ReplyDelete

पसन्द - नापसन्द का इज़हार करें , बल मिलेगा ।