Friday 18 July 2008

ना मैं लड़ी थी

कबीर की बेटी कमाली की रचना को आशा भोंसले स्वर में सुनें :



6 comments:

  1. अरे आशा भौंसले ने भी गाया है इसे?
    मैंने तो इसे लोक गीत के रूप में बहुत पहले बचपन में सुना था!
    बहुत सुमधुर है ये!

    ReplyDelete
  2. अद्भुत है! धन्यवाद सर!

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर. हम तो इसे सत्यम शिवम सुन्दरम फिल्म का एक गाना बस जानते थे. यह तो पहली बार सुन रहे हैं..आप के पास भी खजाना है.

    ReplyDelete
  4. shukriyaa...ashaa ki avaaz me pehli baar sunaa ise..

    ReplyDelete
  5. परेशानी के आलम में कम से कम यहां तो सुकून मिला

    ReplyDelete

पसन्द - नापसन्द का इज़हार करें , बल मिलेगा ।