Monday 19 May 2008

एक मधुर दोगाना

१९६५ में किरन प्रोडक्शन द्वारा बनायी गयी फिल्म नीला आकाश का संगीत मदन मोहन का था । धर्मेन्द्र और माला सिन्हा अभिनित फिल्म का यह दोगाना अत्यन्त मधुर है । आवाज दी है मोहम्मद रफ़ी और आशा भोंसले ने । गीत रचना राजा मेंहदी अली खाँ की । गीत के बोल :
आप को प्यार छुपाने की बुरी आदत है , आप को प्यार जताने की बुरी आदत है ।
आप ने सीखा है क्या दिल को लगाने के सिवा ?
आप को आता है क्या, नाज़ दिखाने के सिवा ?
और हमें नाज़ उठाने की बुरी आदत है ॥

किसलिए आप ने शर्मा के झुका ली आँखें,
किसलिए आप से घबरा के बचा ली आँखें ?
आप को तीर चलाने की बुरी आदत है ॥

6 comments:

  1. बहुत अच्छा गीत !

    पहले विविध भारती पर बहुत सुना करते थे आज बहुत दिन बाद इस गीत की चर्चा हुई।

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छा गीत !

    पहके विविध भारती पर बहुत सुना करते थे। आज बहुत दिन बाद इस गीत की चर्चा हुई।

    अन्नपूर्णा

    ReplyDelete
  3. बहुत अच्छा गीत कभी इस गाने की खूब धूम हुआ करती थी अरसे के बाद आज सुअनाने का चांस मिला . धन्यव्द

    ReplyDelete
  4. आभार इस उम्दा गीत को प्रस्तुत करने का.

    ReplyDelete
  5. बहुत बढ़िया गीत ! ऐसे ही सुनवाते रहिये।
    शंशाक

    ReplyDelete
  6. बहुत बहुत शुक्रिया. वाह .... एक अरसे के बाद सुना ये खूबसूरत गीत. मज़ा आ गया.

    ReplyDelete

पसन्द - नापसन्द का इज़हार करें , बल मिलेगा ।