Wednesday 20 August 2008

हिन्दुस्तानी शास्त्रीय रागों के नमूने : डी .वी. पलुस्कर

दत्तात्रेय विष्णु पलुस्कर का परिचय इस ब्लॉग के श्रोताओं को है । उनके गायन की तीन पोस्ट यहाँ पेश हो चुकी हैं । श्री संजय पटेल के अनुरोध ( तिलक कामोद ) पर यहाँ राग विभास , मालकौंस अदि यहाँ प्रस्तुत किए जा रहे हैं । सुधी श्रोता वृन्द रसास्वादन करेंगे ।

2 comments:

  1. adhbhut....aabhaar ...aur kya kahey...suna jaa raha hai..

    ReplyDelete
  2. इतने बेहतरीन राग सुनवाने के लिए आभार

    ReplyDelete

पसन्द - नापसन्द का इज़हार करें , बल मिलेगा ।