Thursday 18 September 2008

दिल ढूँढता है सहारे सहारे/मुकेश/दुर्लभ

मुकेश का यह दुर्लभ एकल गीत सुनें :


5 comments:

  1. सुन्दर! वैसे मुझे मुकेश बहुत ज़्यादा प्रिय नहीं हैं पर आपका लगाया तो सुनना ही होता है. निराश नहीं हुआ इस दफ़े भी.

    ReplyDelete
  2. वाकई दुर्लभ गीत है
    पहली बार सुनने और देखने का अवसर मिला

    ReplyDelete
  3. एक और शानदार गीत... मुकेश के शुरुआती दौर के गीतों और सबसे मधुर गीतों में से एक।
    यह प्लेयर लोड होने में समय ज्यादा लेता है।

    ReplyDelete
  4. achha laga, vaise I love Rafi sahab...he was my fav singer...Lata ji n Rafi sahab shayad duniya ke sab se achhe singers hain....

    ReplyDelete
  5. बहुत प्यारा नगमा है...

    ReplyDelete

पसन्द - नापसन्द का इज़हार करें , बल मिलेगा ।