Thursday, 16 July, 2009

तोसे नैना लागे रे, पिया साँवरे



कल ही एक मित्र के ईस्नाइप के फोल्डर में सुना । मित्र समीरलाल को समर्पित ।

1 comment:

  1. लगता है मुझे अपनी पसंद के सारे गीत आपके इस ब्लॉग पर मिल जायेंगे....एड कर लिया है अपनी पसंदीदा सूची में.....अब तो अच्चे संगीत के संपर्क के लिए यहाँ ही ठौर बनाना पड़ेगा....

    बहुत बहुत आभार आपका.....

    ReplyDelete

पसन्द - नापसन्द का इज़हार करें , बल मिलेगा ।