Friday 19 March 2010

तू जिन्दा है तो जिन्दगी की जीत पर यकीन कर

आज एक OTC प्रशिक्षित स्वयंसेवक के ब्लॉग पर इस गीत का टिकर देख कर मजा आया । आप भी सुनें :

पूरा गीत स्वयंसेवक आत्मसात करें तो कितना भला हो !

2 comments:

  1. "पूरा गीत स्वयंसेवक आत्मसात करें तो कितना भला हो ! "

    वो कम से कम गा तो रहे है वरना तो यहाँ लोग जिस थाली में खाते है उसी में छेद कर जाते है ! हम हिन्दुस्तानी उम्मीद तो करते है कि कोई इस देश में भगत सिंह बने , कोई चंद्रशेखर बने, कोई सुभाष चन्द्र बोस बने, मगर सब यह सब अडोस पड़ोस वालों के बच्चे ही बने अपना बेटा बने तो बस सिर्फ कोई मालदार विभाग का मंत्री !

    ReplyDelete
  2. इस गीत को प्रलेस , जलेस , जनस्ंस्क्रति मंच और इप्टा के कॉमरेडस बरसों से गा रहे हैं । यह उनका मार्चिंग सॉंग है ।

    ReplyDelete

पसन्द - नापसन्द का इज़हार करें , बल मिलेगा ।